खबरें सुन्नें के लिए बटन को दबाऐं
image_pdfPDF Download

31 अक्टूबर तक पंजीयन कराना अनिवार्य

गरियाबंद (गंगा प्रकाश)। राज्य को दलहन उत्पादन में स्वावलंबी बनाने तथा दलहनी फसल लगाने वाले कृषकों को अपने उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिए राज्य सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, अरहर की खरीदी करने का निर्णय लिया गया है। खरीदी हेतु मार्कफेड को नोडल एजेंसी तथा उर्पाजन केन्द्र सी.जी. स्टेट वेयर हाउस गरियाबंद को घोषित किया गया है। किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, अरहर की खरीदी हेतु छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित (मार्कफेड ) एवं कृषि विभाग द्वारा आवश्यक तैयारियां प्रारंभ कर दिया गया है। उप संचालक कृषि  संदीप भोई ने बताया कि राज्य में मूंग और उड़द की खरीदी अगले महीने 17 अक्टूबर से 16 दिसम्बर 2022 तक एवं अरहर की खरीदी 13 मार्च 2023 से 12 मई 2023 तक चिन्हांकित उपार्जन केन्द्र में किया जायेगा भारत सरकार द्वारा इस वर्ष मूंग 7,755, उड़द 6,600 एवं अरहर 6,600 रूपये का न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित किया गया है। मूंग, उड़द, अरहर की खरीदी को प्रोत्साहित करने हेतु राज्य सरकार द्वारा किसान भाईयों को मंडी शुल्क एवं कृषक कल्याण शुल्क के भुगतान में भी पूर्णतः छूट दिया जा रहा है मूंग, उड़द एवं अरहर लगाने वाले किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर विक्रय करने के लिए एकीकृत किसान पोर्टल में पंजीयन कराना होगा एकीकृत किसान पोर्टल में मूंग, उड़द, अरहर फसलों के पंजीयन कराने पर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर विकय करने के साथ-साथ किसानो को 9,000 प्रति एकड़ तथा धान के बदले मूंग, उड़द, अरहर लगाने पर 10,000 प्रति एकड़ राजीव गाँधी किसान न्याय योजना का भी लाभ मिलेगा। योजनांतर्गत लाभ प्राप्त करने हेतु इच्छुक कृषकों को निर्धारित समयावधि में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के पोर्टल डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट आरजीकेएनवाई डॉट सीजी डॉट एनआईसी डॉट इन में 31 अक्टूबर तक पंजीयन कराना अनिवार्य होगा पंजीयन कराने हेतु किसान भाईयों को आवश्यक दस्तावेज जैसे ऋण पुस्तिका, बी-1 आधार नंबर, बैंक पासबुक की छायाप्रति के साथ आवेदन भरना होगा। ऐसे किसान जिन्होने खरीफ 2021-2022 में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान विक्रय किया है, उन्हें नए फसल एवं रकबे के पंजीयन हेतु प्रपत्र-2 में आवेदन करना होगा। कृषक के आवेदन का प्रारंभिक सत्यापन ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा किया जायेगा तथा पंजीयन की कार्यवाही सहकारी समितियों के द्वारा की जायेगी। जिले के मूंग, उड़द, अरहर लगाने वाले किसान भाईयों से अपील की गई है कि वे अपने क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी से संपर्क कर एकीकृत किसान पोर्टल मे जल्द से जल्द पंजीयन कराये ताकि मूंग, उड़द, अरहर का न्यूनतम समर्थन मूल्य पर विक्रय करने के साथ-साथ राजीव गाँधी किसान न्याय योजना का लाभ प्राप्त कर सके।

0Shares